ये कैसे हिन्दोस्तानी

ये कैसे हिन्दोस्तानी हैं, जो हिन्दोस्तान को जाला रहे,

न सुनते कुछ न ही समझते हैं , वस यूँही चिल्ला रहे,

पत्थर को हाथो में लेकर, शांतिपूर्ण विरोध में आते हैं ,

इनका धेय कुछ और ही है, धेयहीन को भड़काते हैं,

चाहिए इनको रक्षा भी, और रक्षक पर पत्थर फेंक रहे,

इनके पीछे से घड़ियाल कई , अपनी रोटियां सेंक रहे,

अज्ञान में भरकर असंतोष, विरोध में हिंसा लाते हैं,

उनका न देश न धर्म कोई, जो हिंसा को सुलगाते हैं,

रक्त गिरा देश का, देश की ही सम्पति की हानि है ,

हिंसक विरोध करने वाले, ये कैसे हिन्दोस्तानी हैं?

************************************

From the heart of an affected Indian.

#peace

Thanks for reading… !!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s