CH 14 Happiness and Sorrow

In the chapter 12, I had asked you to count your blessings, to reduce anxiety and frustration. Here I want to stress on facing your worst fear upfront, to reduce the Stress.

When you face something unexpected or unwanted and it starts to give you stress, try doing a simple exercise of 5 steps. I have tried several times and works for me.

1. Pause for a moment, imagine the worst outcome of the situation.

2. Remain in that space for a few minutes to feel the release of sadness of this outcome.

3. Extend your thought to the next step you would take to stabilize yourself.

4. Tell yourself you will live out of it anyway, and it’s ok to lose some.

5. Come back to the current situation. Now you are not afraid of the worst outcome.

Face the situation to get the best mitigation you can with your available resources. If you avoid the worst, be happy. If you couldn’t, take the step you imagined in step 3 and be at peace. At least for the duration, you will find yourself out of the sorrow of the loss and able to make your response with a stable mind.

And then of course Bounce Back …. !!!

“Because happiness is not about avoiding sorrow, it’s about facing it successfully. “


© sarikatripathi


Thanks for reading…!!

Face sorrow, stay happy.. !!

CH 13

CH 15

मध्यवर्ग का क्या??

दिल में दर्द हजारों छुपे हुए पर चुप रहता है,

अन्याय समाज और समय के हर दिन सहता है,

उच्च वर्ग की इच्छाओं को श्रम से पूरा करता है,

आवस्यकता पड़े तो गरीब का पेट भी भरता है,

देश की उन्नति की खातिर जो कर अदा करता है,

विपदा कोई आये तो भी सहयोग सदा करता है,

श्रमिक वर्ग की तकलीफों पर राजनीति बहती है,

मध्यवर्ग की विपदाओं पर कोई दृष्टि नहीं रहती है,

उच्चवर्ग के नुकसानों के अनुमान लगाये जाते हैं,

श्रमिकों के उत्थान हेतु भी कानून बनाये जाते हैं,

पर जब किसी आपदा में मध्यवर्ग की नौकरी जाती है,

तो उन उमीदों से निकल क्यों कोई मदद नहीं आती है?

अपने बोझ उठाए खुद पर आप घिसा करता है,

उसका क्या जो दो पाटों के बीच पिसा करता है?

©सरिकात्रिपाठी


Thanks for reading… !!! Also listen to the recitation in the attached clip…!!

Keep strong who ever is facing harsh time..!!

Featured image borrowed from internet with thanks !!

मध्यवर्ग का क्या? कविता पाठ

आजकाल, जागने से भी सवेरा नहीं होता..🌚🌝

सूरज है रौशन पर, दूर अंधेरा नहीं होता,

आजकाल, जागने से भी सवेरा नहीं होता,

मोबइल में अलार्म, टुनटुना कर कई बार रोता है,

की उठो तो सही, इतनी देर तक क्या कोई सोता है,

हर रोज, एक नये दिन का आभास तो होता है,

पर नये दिन में करने को, कुछ खास नहीं होता है,

कई बार पोधों को मिलते हैं, पत्तियों को गिनते हैं,

और खुद से बातें करते हुए, कई ख्याल बुनते हैं ,

यदि सारी योजनाओं को अंत में अपूर्ण ही रहना था,

तो उनके पाने के लिए इतना कष्ट क्यों सहना था,

जैसे की जीवन में अर्थ कुछ कम होने लगे से हैं,

पर इस सब के बीच भी कुछ सपने जगे से हैं,

सवेरे में जब हम अलार्म को आगे बढ़ाते होते हैं,

ऐसा नहीं की हर उम्मीद छोड़ कर बेसुध सोते हैं,

अँधेरे ने घेरा है तो कुछ रौशनी भी ढूंढ़ते रहना,

सूरज ना मिले तो किसी चाँद को अपना कहना,

कुछ उमीदें रोशन रखना अंधेरों में भी,

क्यूंकि यह बादल छटेंगे कभी न कभी,

©सरिकात्रिपाठी

*************************************

Thanks for reading..!!

Keep patience..

Stay healthy, stay happy.. !!

तालाबंदी #lockdown

तन घर में बंधक है तो क्या, मन का पंछी आसमान से खुश हो,

तालाबंदी में सब बाधित है तो क्या, जीवन कम सामान में खुश हो,

घर से काम की सुबिधा पाकर, दफ़्तर का हर लाचार भी खुश हो,

क्या कुछ के बगैर जी सकते हैं, लोभी का मन इस विचार में खुश हो,

घर के कुछ काम खुद करके, हर आलसी अपने पुरषार्थ से खुश हो ,

और बिन काम भी गरीब का बेतन देकर, अपने इस परमार्थ से खुश हो,

खाली गलियों में भूखे पशुओं को, भोजन देकर दान से खुश हो,

घर रहकर परिवार बचाकर, देश को अपने योगदान से खुश हो,

तालाबंदी जब खुल जाएगी , उस नये विश्व के विश्वास से खुश हो,

कुंठित होना बहुत सरल है, आशा भारी हर स्वास से खुश हो,

खुश हो की ईश्वर ने इतना सक्षम किया तुझे, की करे प्रतीक्षा खुले जीवन की,

सबको यह अवसर भी तो नहीं मिला, की रक्षा कर पाते अपने तन की,

***************************************

Stay generous, stay humble…

Stay positive, stay home …

Stay healthy, stay safe….

For now just stay … !!!

वायरस का भय #COVID-19

जीवन अस्थिर, है असमंजस हर ओर,

वायरस का भय और गणनाओं का शोर,

करोना का होना, ना होना, बड़ा सवाल है,

होने की शंका होना उससे भी बड़ा बबाल है,

कुछ घर में बंधक, कुछ अनजान जगहों में,

भयभीत स्वप्न और शंकाएँ निगाहों में,

घर के काम और घर से काम की कोशिश जारी,

क्या कुछ सीखाके जाएगी ये महामारी,

आपनो के साथ कहीं सब मिल समय गुजारते हैं,

विदेशी धरती पर फसे कहीं अपने देश को पुकारते हैं,

सरकारें नित नये प्रतिबन्ध जारी करती जाती हैं,

नागरिकों से भी जिम्मेदारी की उम्मीद लगाती हैं,

उपचार से बेहतर बचाव, आज का सूत्र है यही ,

स्वास्थ्य के आगे समय या धन का भी कुछ मोल नहीं,

***********************************

More strength to all home and abroad.

Everyone take care of yourself

Hope all will be fine soon enough

Thanks for reading…!!

यादें कुछ भूली भूली सी..

हो रहा सही , सो रहा अभी,
जो कहा नहीं, सो रहा नहीं,
है वो जगह कहाँ , जाना जहाँ,
वो था कब, जब में भी था वहाँ,
आँखों में स्वप्न अधूरे हैं,
कहने को शब्द न पूरे हैं ,
यादें कुछ भूली भूली सी,
बातें कुछ हैं गोधूलि सी,
कुछ खींच रहा मेरे भीतर,
किस तरह में वहाँ जाऊ पर?
मन को अपने समझाता हूँ,
फिर भी क्यों उधर ही जाता हूँ,
जीवन में आगे बढ़ने को,
किसी और की जंग को लड़ने को,
छोड़ा मैंने जो घर था अपना,
अब लगता है भूला सा सपना,
जो याद बहुत तो आता है,
पर अब उससे कोई न नाता है,
जीवन की राहो में आगे,
एक अंधी दौड़ में थे भागे,
अब जब, सब कर, घर ही बसाना था,
तो फिर छोड़ा ही क्यों वो आसियाना था ?
हो कोई अगर तेरे घर पर,
दे ध्यान अभी इस अवसर पर,
यादें वो न भूली भूली हों,
सूनी न सब गोधूलि हों,
इस कारण जाते रहना है,
घर अपने आते रहना है,

©sarikatripathi
***********************
Thanks for reading.. !!

रोजाना (cont. )

………..

वही चाहना वही बहाना, रोजाना,
वही रुलाना वही मनाना रोजाना,
थक कर सब छोड़ अकेले चल देना,
फिर लौट के प्यार सजाना रोजाना,

वही दर्द और वही दवाई रोजाना,
वही उद्यम और वही थकाइ रोजाना,
श्रम भर बेतन पाने की खातिर,
सेहत की फिर वही रुसवाई रोजाना,

………..

*************************************

रोजाना (1st set)

Thanks for reading.. !!

Stay in love, stay healthy .. !!

Help others to help yourself..🤝

If you ever doubt your self worth, try teaching a underprivileged child who can not afford a tuition to help him excel in studies. You would mean an angel to this kid.

Helping others can raise your self esteem very quickly, it’s like disprin to headache

It helps both selfless mind by giving a fulfilling experience and selfish mind by giving a sense of accomplishment.

************************************

Random thoughts..!!

Stay helpful, stay happy… !!

आसमां भर ख़्वाहिशें…✊️

आसमां भर ख्वाहिशों को दो मुठ्ठियों का सहारा मिल जाये,
चाहतों के समंदर को एक कोशिश का किनारा मिल जाये,
मंजिलों के पर्वत भी आसानी से हासिल कर लेंगे,
जूनून के तूफानों को, बस अपनी डगर का इशारा मिल जाये

***********************************

Stay inspired Stay positive .. !!

CH 9: Happiness Without Self ?

We all want to be happy. But what if, the factor of Self is missing. If someone does not value himself or herself. Is happiness even possible? I guess there is always a way, one should have the will to find it.

There can be one possibility, ‘being selfless‘. A person who has found salvation and devoted oneself to the greater good and spiritual explorations. There is no ‘self’ but there are happiness and peace. Although not impossible, this is a less probable option that most of us can relate with.

Other then the above, there is no happiness, unless we are happy with ourselves, to at least a minimum level of satisfaction. Lack of self-esteem is one of the major factors when we begin to doubt ourself, the satisfaction levels drop drastically. There is a lot of literature and self-help content available online and offline to help people realise their worth and revive their self-esteem. My personal favourite are listed below…..

Let Past be Past, easy and straight. Whatever have already happened can not be changed so crying over it, is counter productive. Best is to take the lesson and move on.

Out of control is Out of concern. Whatever is beyond your control and not infulenced by your actions is better left to happen. There is no use bothering about it.

Work on what you can change. Start with yourself, your looks, the way you talk, what you eat or anything that will make the situation better. Then Help others. Helping Others will raise self-esteem very quickly.

Be content. While there are genuine cases of depression and dispare, there are also lot of unnecessary grieving over non essential accomplishments. To keep world a happy place, people need to learn to diffrentiate between sorrow for necesscity and luxury.

Change the Reference Point. When you find yourself completely helpless, so much so that happiness seems impossible. Change the point of reference from where you are measuring your accomplishments. Best not to compare with others and try to better yourself from yesterday and not from 10 years before.

Its not your fault, and even if it is, forgive yourself. All that goes wrong is not always your doing. There is the whole universe responsible for what all happens. If someone has been in an accident and lost a leg or someone is suffering from an incurable disease, the will to enjoy life is hard to find. The First step is to believe in a better life and forgive all the causes of the pain, including yourself.

In short alter the prespective that suit to your situation to see the bright side. Just when you find the will to work on the Self Factor, improve everyday and make a happy life out of whatever situation you are in. Lastly seek help when you can not do it yourself, just like we take a cab when we can’t walk home.

Life is Beautiful believe it and Live it.

Stay Focused and Stay Healthy.. !!

CH 8

CH 10