कोशिशें जिंदगी की…🤞

जिंदगी बेलगाम होती गई, हम थामने की कोशिश करते रहे,

वो छटपटा कर छूटती रही, हम बांधने की कोशिश करते रहे,

वो टूट कर बिखर जाती रही, हम बचाने की कोशिश करते रहे,

वो उड़कर आसमा सजाती रही, हम छुपाने की कोशिश करते रहे,

वो उम्मीद हमसे लगाती रही, हम निभाने की कोशिश करते रहे,

जिंदगी यूँही गुजर जाती रही, हम लड़खड़ाने की कोशिश करते रहे,

वो नाराज होकर जाती रही, हम मनाने की कोशिश करते रहे,

वो बेइंतहा याद आती रही, हम भुलाने की कोशिश करते रहे,

वो लौट कर वापस आती रही, हम भगाने की कोशिश करते रहे,

वो थामे रही फिर भी हमें, हम छुड़ाने की कोशिश करते रहे,

हम नाकामियों में उलझे रहे, वो सुलझाने की कोशिश करने लगी,

हम अंधेरे में खुद को बुझाते रहे, वो जलाने की कोशिश करने लगी,

हम उससे शिकायत करते रहे, वो मुस्कराने की कोशिश करने लगी,

हम कोशिशों से जब हारने लगे, वो जिताने की कोशिश करने लगी,

कोशिशों की हिम्मत फिर जागने लगी, जिन्दगी मेरे आगे नाचने लगी,

जीने का मकसद देते हुए, वो मंजिलों की ऊंचाई नापने लगी,

वो दिखाती रही रास्ते हमें, हम चलते जाने की कोशिश करते रहे,

वो थकाती रही हमें उम्र भर, हम न जाने क्या कोशिश करते रहे,

ऐ जिंदगी शुक्रिया तेरा, तू कोशिशों का एक बड़ा गुलशिताॅ जो बनी,

मेरे होने का इतना सुकून मुझको है, इन कोशिशों की एक दास्ताँ तो बनी,

©सरिकात्रिपाठी

************************************

पढ़ने के लिए शुक्रिया…!!

पढ़ते रहिए, प्रसन्न रहिए..!!

और हो क्यूँ…?

इच्छायें छोटी नहीं हैं मेरी, और हों क्यूँ, चलना मुझे है तो मंजिलें भी में ही तय करूँ…

रोशनी कम पसंद नहीं मुझे, और हो क्यूँ, जलना मुझे है तो आग की ऊंचाई भी में ही तय करूँ….!

************************************

Thanks for reading

फिर कमाया क्या?

सालों नौकरी की, फिर भी नौकरी न छोड़ सके, तो फिर कमाया क्या?

हमेशा आभाव में रहे, फिर भी चौखट न जोड़ सके, तो फिर बचाया क्या?

प्यार बहुत किया, फिर भी साथ ना रहे कभी, तो फिर निभाया क्या?

दिल दुखाया कईबार, फिर भी एक मुस्कराहट ना ला सके, तो फिर मनाया क्या?

पूजते रहे रोज, फिर भी ईश्वर से ना मिल सके , तो फिर मन लगाया क्या?

देते रहे वो हमेशा, फिर भी माता पिता साथ नहीं, तो फिर लौटाया क्या?

दुनिया घूमें बहुत, फिर भी सोच कुंद रही, तो फिर देख के आया क्या?

चलते रहे विमानों में, फिर भी पहुंचे कहीं नहीं, तो फिर उड़ाया क्या?

खाया खूब, फिर भी शरीर कमजोर ही रहे, तो फिर पचाया क्या?

पढ़ाई दिन रात कराए, फिर भी परीक्षा से डरते रहे, तो फिर सिखाया क्या?

लिखते रहे रोजही, फिर भी किसी ने पढ़ा नहीं, तो फिर सुनाया क्या?

अरमान रहे रोज नए, फ़िर भी किया कुछ नहीं, तो फिर पाया क्या?

ज्ञान सबको दिए, फ़िर भी खुद कुछ ना किए, तो फिर कुछ बदल पाया क्या?

शिकायत रही अंधेरे से, फिर भी एक दिया ना जला सके, तो फिर कर दिखाया क्या?

ये जीवन के राशन की दुकान से लाने वाले समान की सूची है, इस लिए अपूर्ण है…!

में आपने जीवन को गौर से देख रही हूँ, कुछ और दिख जाए तो लिख लूँ,….!!

………………….more to come …..

©सारिकात्रिपाठी

*************************************

Thanks for reading..!!

Stay healthy, stay happy…

CH 14 Happiness and Sorrow

In the chapter 12, I had asked you to count your blessings, to reduce anxiety and frustration. Here I want to stress on facing your worst fear upfront, to reduce the Stress.

When you face something unexpected or unwanted and it starts to give you stress, try doing a simple exercise of 5 steps. I have tried several times and works for me.

1. Pause for a moment, imagine the worst outcome of the situation.

2. Remain in that space for a few minutes to feel the release of sadness of this outcome.

3. Extend your thought to the next step you would take to stabilize yourself.

4. Tell yourself you will live out of it anyway, and it’s ok to lose some.

5. Come back to the current situation. Now you are not afraid of the worst outcome.

Face the situation to get the best mitigation you can with your available resources. If you avoid the worst, be happy. If you couldn’t, take the step you imagined in step 3 and be at peace. At least for the duration, you will find yourself out of the sorrow of the loss and able to make your response with a stable mind.

And then of course Bounce Back …. !!!

“Because happiness is not about avoiding sorrow, it’s about facing it successfully. “


© sarikatripathi


Thanks for reading…!!

Face sorrow, stay happy.. !!

CH 13

CH 15

आजकाल, जागने से भी सवेरा नहीं होता..🌚🌝

सूरज है रौशन पर, दूर अंधेरा नहीं होता,

आजकाल, जागने से भी सवेरा नहीं होता,

मोबइल में अलार्म, टुनटुना कर कई बार रोता है,

की उठो तो सही, इतनी देर तक क्या कोई सोता है,

हर रोज, एक नये दिन का आभास तो होता है,

पर नये दिन में करने को, कुछ खास नहीं होता है,

कई बार पोधों को मिलते हैं, पत्तियों को गिनते हैं,

और खुद से बातें करते हुए, कई ख्याल बुनते हैं ,

यदि सारी योजनाओं को अंत में अपूर्ण ही रहना था,

तो उनके पाने के लिए इतना कष्ट क्यों सहना था,

जैसे की जीवन में अर्थ कुछ कम होने लगे से हैं,

पर इस सब के बीच भी कुछ सपने जगे से हैं,

सवेरे में जब हम अलार्म को आगे बढ़ाते होते हैं,

ऐसा नहीं की हर उम्मीद छोड़ कर बेसुध सोते हैं,

अँधेरे ने घेरा है तो कुछ रौशनी भी ढूंढ़ते रहना,

सूरज ना मिले तो किसी चाँद को अपना कहना,

कुछ उमीदें रोशन रखना अंधेरों में भी,

क्यूंकि यह बादल छटेंगे कभी न कभी,

©सरिकात्रिपाठी

*************************************

Thanks for reading..!!

Keep patience..

Stay healthy, stay happy.. !!

माना की चाँद नहीं..

माना की हर कोई चाँद नहीं होता,

पर तारों के बिना भी आसमान नहीं होता,

चाँद को नजदीकी का फायदा मिलता है,

धरती की नजर में वही अधिक खिलता है,

यूँ तो तारों में ही ज्यादा रौशनी होती है,

वस देखने वाले की नजर की कमी होती है,

की उसको चाँद ही बड़ा दिखता है,

और वो चाँद की ही तारीफें लिखता है,

तारों ने कई वीराने हैं रोशन करे हुए

ब्राह्मण में ऊर्जा के हैं श्रोत बन हुए,

सूर्य भी तो ऐसा ही एक तारा है,

जिससे ही धरती का जीवन सारा है,

खुद को जलाता है फिर भी तारीफें कम हैं,

क्यूंकि चाँद की आँखो में ही संसार के सारे गम हैं,

कुछ लोग चाँद होकर सुंदरता की मिसाल हो जाते,

जबकि बहुत से तारे दूसरों के लिए खुद खो जाते,

अपनी नजरों की कमी को दूर करने की है जरूरत

गौर से देखो तो यह तारे ही ज्यादा हैं खूबसूरत।

©सरिकात्रिपाठी

************************************

Thanks for reading…

Stay happy.. stay safe.. !!!

Picture credit : internet

तालाबंदी #lockdown

तन घर में बंधक है तो क्या, मन का पंछी आसमान से खुश हो,

तालाबंदी में सब बाधित है तो क्या, जीवन कम सामान में खुश हो,

घर से काम की सुबिधा पाकर, दफ़्तर का हर लाचार भी खुश हो,

क्या कुछ के बगैर जी सकते हैं, लोभी का मन इस विचार में खुश हो,

घर के कुछ काम खुद करके, हर आलसी अपने पुरषार्थ से खुश हो ,

और बिन काम भी गरीब का बेतन देकर, अपने इस परमार्थ से खुश हो,

खाली गलियों में भूखे पशुओं को, भोजन देकर दान से खुश हो,

घर रहकर परिवार बचाकर, देश को अपने योगदान से खुश हो,

तालाबंदी जब खुल जाएगी , उस नये विश्व के विश्वास से खुश हो,

कुंठित होना बहुत सरल है, आशा भारी हर स्वास से खुश हो,

खुश हो की ईश्वर ने इतना सक्षम किया तुझे, की करे प्रतीक्षा खुले जीवन की,

सबको यह अवसर भी तो नहीं मिला, की रक्षा कर पाते अपने तन की,

***************************************

Stay generous, stay humble…

Stay positive, stay home …

Stay healthy, stay safe….

For now just stay … !!!

धेय जीवन के .. !!

कुछ धेय चुने थे जीवन के,

कुछ हिस्से थे मेरे मन के,

करना क्या था और कैसे था,

ये सब निर्धारित जैसे था,

पर नियति पर जोर न चल पाया,

मेरे मन जैसा न कल आया,

कोशिश फिर भी जारी रहती,

एक आशा अब भी प्यारी रहती,

अनजान मार्ग आते सम्मुख,

कुछ खुशियाँ और कुछ लाते दुःख,

रुक जाना कोइ उपचार नहीं,

मन कुंठित है लाचार नहीं,

बस हर रोज बढ़े आगे,

मन चाहे हर दिन न लागे,

बदले हैं मार्ग पर धेय नहीं,

झूठी उपलब्धियों से नेह नहीं,

पाकर जिनको मन भारी है,

और निभाने की लाचारी है,

ये बोझ उठाकर बांहों में,

चलते अंजानी राहों में,

विश्वास ह्रदय में बांधेंगे,

एक दिन धेय को साधेंगे !

***********************

Thanks for reading.. !!

Stay happy keep reading .. !!

यादें कुछ भूली भूली सी..

हो रहा सही , सो रहा अभी,
जो कहा नहीं, सो रहा नहीं,
है वो जगह कहाँ , जाना जहाँ,
वो था कब, जब में भी था वहाँ,
आँखों में स्वप्न अधूरे हैं,
कहने को शब्द न पूरे हैं ,
यादें कुछ भूली भूली सी,
बातें कुछ हैं गोधूलि सी,
कुछ खींच रहा मेरे भीतर,
किस तरह में वहाँ जाऊ पर?
मन को अपने समझाता हूँ,
फिर भी क्यों उधर ही जाता हूँ,
जीवन में आगे बढ़ने को,
किसी और की जंग को लड़ने को,
छोड़ा मैंने जो घर था अपना,
अब लगता है भूला सा सपना,
जो याद बहुत तो आता है,
पर अब उससे कोई न नाता है,
जीवन की राहो में आगे,
एक अंधी दौड़ में थे भागे,
अब जब, सब कर, घर ही बसाना था,
तो फिर छोड़ा ही क्यों वो आसियाना था ?
हो कोई अगर तेरे घर पर,
दे ध्यान अभी इस अवसर पर,
यादें वो न भूली भूली हों,
सूनी न सब गोधूलि हों,
इस कारण जाते रहना है,
घर अपने आते रहना है,

©sarikatripathi
***********************
Thanks for reading.. !!

कृतिम जीवन #digitallife

कृतिम व्यस्तता से जीवन के खालीपन को भर रहे,

जीवन की दौड़ के नाम पर जीवन को नष्ट कर रहे,

शरीर बाहर से पुष्ट हैं और मस्तिष्क रोगी हो रहे,

देखने में प्रसन्नचित्त और अंदर ही अंदर रो रहे,

कृतिम जीवन के प्रचलन से, मानव यथार्थ से दूर है,

निरर्थक आस्तित्व है पर खुशियों का प्रचार भरपूर है,

****************************************

Enjoy life in real world..

Happy Reading …

Stay healthy ..!!