कृतिम जीवन #digitallife

कृतिम व्यस्तता से जीवन के खालीपन को भर रहे,

जीवन की दौड़ के नाम पर जीवन को नष्ट कर रहे,

शरीर बाहर से पुष्ट हैं और मस्तिष्क रोगी हो रहे,

देखने में प्रसन्नचित्त और अंदर ही अंदर रो रहे,

कृतिम जीवन के प्रचलन से, मानव यथार्थ से दूर है,

निरर्थक आस्तित्व है पर खुशियों का प्रचार भरपूर है,

****************************************

Enjoy life in real world..

Happy Reading …

Stay healthy ..!!

प्रभात चाल.. (morning walk)

सेहत ने साथ देने की सर्त रख दी,
डाइट के ऊपर कसरत की पर्त रख दी,
शुरुआत के लिए प्रभात चाल को आजमाया
और जूतों पर पार्क की गर्त रख दी,

चलने से अधिक जागने का पराक्रम,
और दिनचर्या में सजाने का उपक्रम,
शुरुआत कर लेने से ज्यादा मुश्किल,
बनाये रखना रोज का यह क्रम,

सुन्दर नज़ारे, सुहावन मौसम,
प्रभात के कई रूप अनुपम,
सूरज की पहली किरणों की गर्माहट,
आती पेड़ो से छन छन,

एक घंटे का निवेश सुबह में,
सारे दिन को करे ऊर्जित,
खुशी रहे मन में बस यूँही,
जैसे कुछ कर लिया हो अर्जित,

पर आलस भी हार नहीं माने,
रोज ही लाता नये बहाने,
ठंड कभी तो नींद कभी,
कभी बस यूँही मन भरमाने,

पर सेहत की भी जिद है,
बिना परिश्रम हाथ न देगी,
प्रभात चाल की यह प्रक्रिया,
बंद करी तो साथ न देगी.

*************************************
Happy Walking

Stay healthy, stay happy.. !!

चिंता से मेरी लड़ाई है … #stress

हैं कष्ट सभी के जीवन में,

पर सच से बहुत बड़ी है चिंता,

संभल को दो शब्द भी मुश्किल,

सौ किस्से लिए खड़ी है चिंता,

हो गृह जीवन या कर्मक्षेत्र ,

हर ओर ही चिंता छाई है,

अपने खुश जीवन की खातिर,

अब चिंता से मेरी लड़ाई है,

मन है, मेरा मनोबल है ,

जीवन की इच्छा सारी है,

कमजोर कर रही भीतर से,

ये चिंता सब पर भारी है,

है बुद्धि और ज्ञान भी है,

ये मेरे तीर कमान भी हैं ,

पर बंधक है भाबुक मन,

और चिंता से संग्राम भी है,

मेरे विरुद्ध चलती है रण में,

है सोच मेरी चिंता के दल में,

थका रही मस्तिष्क को मेरे,

डुबा डुबा चिंता के जल में,

ग्रहयुद्ध सा चलता है अंदर,

मन नहीं मस्तिष्क के वस में,

सही गलत का भेद हो रहा,

धुंधला अब इस असमंजस में,

ले बचा कोई मुझको मुझसे,

दे दिखा मार्ग सुख शांति का,

साधन हो योग शास्त्र जैसा,

करे नष्ट अंधेरा भ्रान्ति का,

हो उपाय समस्या के अनुसार ही,

अनावश्यक चिंतन कम करना है,

सरल जीवन में सुख लाने को,

चिंता का दमन करना है,

*************************************

More strength to all the stressed.. 🤝

De-stress and stay healthy… !!!

Thanks for reading.

खुशियों के टुकड़े..🥳

टुकड़ो में मिलती खुशियाँ, ध्यान ना दो तोनहीं दिखतीं,

टुकड़े यही जोड़ लेते तो खुशियों की चादर बिछतीं,

छोटे छोटे गमों को जोड़ के उदासी तो बना लेते हैं,

छोटी छोटी खुशियों से फिर क्यों ना नई हसीं खिलतीं,

***************************************

Thanks for reading..!

Keep happy, Keep smiling.. !!

📖 गुरु दिवस 🙏

“गुरु ब्रह्मा गुरु विष्णु गुरुदेव महेश्वरा
गुरु साक्षात परब्रह्म तसमयी श्री गुरुवो नमः “

गुरु ही किताब को विद्या और विद्या को ज्ञान बनाता है,

सभी गुरु जानो को सादर प्रणाम और धन्यवाद !!!

Happy Teacher’s Day

रोजाना (cont. )

………..

वही चाहना वही बहाना, रोजाना,
वही रुलाना वही मनाना रोजाना,
थक कर सब छोड़ अकेले चल देना,
फिर लौट के प्यार सजाना रोजाना,

वही दर्द और वही दवाई रोजाना,
वही उद्यम और वही थकाइ रोजाना,
श्रम भर बेतन पाने की खातिर,
सेहत की फिर वही रुसवाई रोजाना,

………..

*************************************

रोजाना (1st set)

Thanks for reading.. !!

Stay in love, stay healthy .. !!

CH 10 Happiness Around Painful Relationship

Some relations we get by birth and more we choose from what we get on the way in life. Relationships are supposed to add flavour to life, a sense of support and belongingness comes along. It can be friendship, love or simple acquaintances, all play their roles, that can make or ruin the day. The intensity of pain or happiness is dependent on the attachment with the related person.

‘Bad choice of relationship in life is like the extra salt in an otherwise perfect dish. It can ruin the taste so bad, we feel, it was better when there was no salt at all.’

All relationships need efforts from both sides to sustain. We need to identify first if a relationship is worth fighting for or its for best to let go and move on. Doing so may be more complex then it may sound. But the painful relations, also popularly known as “toxic relations”, are usually un-repairable as they involve some kind of exploitation of one person by the other. It may be financial, political, social, or emotional exploitation where one person gains out of another person’s pain. Such relations are like infections, which can be fatal if not treated and removed.

It is not only the relationship in itself but also the social implications that come with it, that makes it complicated to resolve the issues. Even if breaking such relation may cause discomfort, one needs to focus on long term happiness benefits.

A simple trick I use to test the worth of any relationship is to imagine the loss that other person will feel if I am not around. ‘If he/she doesn’t care if you die(leave), he/she is not worth not dying for’. Turns out, it’s more simple then we thought.

‘when someone doesn’t care if you die, he/she is not worth not dying for’

While the relationships are meant to be mutual and that needs you to contribute your share with honesty and dedication. Its crucial not to loose sight of your happiness over the responsibility of sustaining the relationship. If you continuously find yourself unhappy then some change is required in any relationship. Change may not be drastic or negative always, but just something new or different to freshen up the relations and create scope for mutual happiness.

Blood relations and family ties are something that can not be changed or replaced. When such relations are painful they are in fact too painful. There is only a option to distance from this pain to be able to focus on one’s own happiness. If someone or even everyone call you selfish for that, be selfish … !!

Most important step in the journey towards sustainable happiness is to forgive and not forget who have hurt you.

Stay happy, stay selfish.. !!

Thanks for reading .. !!

CH 9

CH 11